Breaking News

भिषण गर्मी में बेजुबान पक्षियो को वत्सला निर्भया शक्ति ने क्रंक्रिट पआउ की व्यवस्था की

धीरज गुप्ता की रिपोर्ट
गया बिहार सूबे में सबसे गर्म जिले के रूप में विख्यात गया में इन दिनों पारा 40 से 45 डिग्री तक पहुंच चुका है जहां आमजन इस गर्मी से बेहाल हैं वह बेजुबान पशु-पक्षी भी पानी के लिए तरस रहे हैं और ऐसे में गया की महिलाएं खुद ही कंक्रीट के बर्तन बनाकर बेजुबान पक्षियों की प्यास बुझाने के लिए पानी रख रही हैं वात्सल्य निर्भया शक्ति की मुहिम -गया की भूगोलिक संरचना गर्मी का अहसास अधिक कराती है पहाड़ों और सूखी नदियों से घिरे इस जिले के सभी प्रखंडो में इन दिनों पानी के लिए हाहाकार मचा हुआ है लेकिन यहीं पहाड़ों पर बसी शहमीर तकिया की महिलाओं ने पक्षियों और आवारा पशुओं के प्यास मिटाने का जिम्मा उठाया है वात्सल्य निर्भया शक्ति से जुड़ी ये महिलाएं खुद से 90 कंक्रीट के बरतन बनाकर घर,पहाड़ों,मंदिरों और अस्पतालों में रख रही हैं। वात्सल्य निर्भया शक्ति की संस्थापिका सत्यवती गुप्ता ने महिलाओं से बातचीत करते संवाददाता महिलाओं ने मिलकर की मदद समूह से जुड़ी महिला सत्यावती देवी बताती हैं कि वे महिलाओं के हितों के लिये विभिन्न तरह के कार्य करती हैं। जिस पहाड़ी में वे रहती हैं वहां आम दिनों में अधिक पक्षी दिखाई देते थे. लेकिन गर्मी आते ही वे यहां से चले गए और पिछले वर्ष यहां पानी की वजह से बहुत पक्षियों का मौत हो गयी थी इसलिए इस वर्ष हम सभी महिलाओं ने मिलकर ये बर्तन बनाया है ताकि पक्षी पानी की कमी से इस जगह को छोड़कर न जाएं और इस छात्रों का भी योगदान है संस्थापिका सत्यावती गुप्ता ने बताया कि उनकी संस्था के छात्रों ने बर्तन का निःशुल्क पेंट किया है ये बर्तन दो रूपों में हैं और छोटा बर्तन पक्षियों तथा बड़ा पशुओं के लिए है वे कहती हैं कि महिलाएं परुषों के मुकाबले अधिक संवेदनशील होती हैं इसलिए इन बर्तनों में पानी डालने का जिम्मा महिलाओं को सौंपा गया है और इन महिलाओं ने खुद से अपने छतों और पहाड़ों पर ये बर्तन रखा है आने वाले समय में शहर के प्रमुख स्थानों पर ये बर्तन रखकर उसमें पानी रखने की भी जिम्मेदारी तय की जाएगी। इस अवसर पर विदुषी कुमारी, शैलेन्द्र कुमार,डा विरेन्द्र कुमार,देव कुमार गुप्ता,कोग्रेस प्रवक्ता कृष्ण कुमार गुप्ता,

67 total views, 1 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »