Breaking News

फारबिसगंज नप बनी प्राइवेट कंपनी , बाबुओं के घर ड्यूटी बजाते हैं नपकर्मी और भुगतान सरकार करती है । अंधेरगर्दी को बताया जा रहा रिवाज !

मनीष कुमार रजक की रिपोर्ट

अररिया-फारबिसगंज नप के स्वच्छता निरीक्षक मनोज कुमार का पत्रकारों को दिया गया वक्तव्य की साहब लोगों के घर नपकर्मी द्वारा काम करना पुराना रिवाज है । नप के प्राइवेट कंपनी की तरह चलने का प्रमाण माना जा सकता है ।
नप ईओ के घर बच्चा खिलाने से लेकर बर्तन माँजने का काम करने वाले प्रदीप नामक दैनिक पारिश्रमिक कर्मी और संविदा सफाईकर्मी धर्मेंद्र पासवान को नगर परिषद प्रशासन भुगतान करती है । उपर से स्वच्छता निरीक्षक के द्वारा इसे रिवाज कहा जाना कानून का मजाक और राजशाही प्रवृत्ति का द्योतक है । लोकतांत्रिक प्रणाली में ऐसे अंधेरगर्दी की कोई जगह नहीं है । नगर विकास एवं आवास विभाग बिहार पटना तथा अररिया जिला प्रशासन को ऐसे डपोरशंखी व्यवस्था के खात्मे की दिशा में तुरंत विधि सम्मत कारवाई जनहित व न्यायहित में करने चाहिए । जनता के गाढ़ी कमाई के दुरूपयोग का यह संगीन मामला इन दिनों शहर के बुद्धिजीवियों में चर्चा का बिषय बनता जा रहा है।

47 total views, 1 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »