फारबिसगंज नप के वार्ड एक स्थित श्री काली पूजा मेला की सरकारी भूमि पर अतिक्रमण कर प्रशासनिक अदूरदर्शिता के कारण,मंदिर व सरकारी स्कूल से सटे रिहायशी इलाके में मात्र 25 मीटर की दूरी पर अवैध मुर्गा फार्म व मुर्गा काटकर बेचने का अवैध धंधे से धार्मिक भावनाएं आहत !नप के इओ दीपक कुमार व एसडीओ रविप्रकाश आखिर रहस्यमय चुप्पी क्यों साधे बैठे हैं ?

प्रदीप कुमार साह की कलम से

फारबिसगंज के काली पूजा मेला स्थित जी माँ काली सिद्धपीठ मंदिर में हाजीपुर ( पटना ) निवासी विपिन मिश्र के पुत्र ओम (05 वर्ष) तथा पुत्री गंगा (ढाई वर्ष ) का मुंडन संस्कार कार्यक्रम पर उपस्थित रिश्तेदारों में आनंद की अनुभूति । इस मंदिर के पुजारी काशीनाथ मिश्र ने मंदिर के लगातार बढ़ती प्रसिद्धि पर खुशी जताते हुए सोमवार को कहा कि मंदिर प्रांगण से मात्र 25 मीटर की परिधि में आधा दर्जन मुर्गा फार्म व मुर्गे के खुदरा दुकानों के अवैध संचालन से धार्मिक कार्यों के लिये प्रतिदिन मंदिर आनेवाले श्रद्धालुओं में भारी गुस्सा है। फारबिसगंज नगर परिषद प्रशासन सहित अनुमंडल पदाधिकारी श्री रविप्रकाश ( भाप्रसे ) ऐसे अवैध गोरखधंधों पर तुरंत रोक लगाने की दिशा में ठोस व कारगर कदम उठाएं । नप अधिनियम भी सार्वजनिक मंदिर व विद्यालय आदि से 200 मीटर की परिधि में मांस ,मदिरा आदि की दुकान चलाने की पूर्व में भी सरकारी लाइसेन्स तक नहीं दिया करती थी तो अब कौन सा नियम नया बना है कि मंदिर व सटे वार्ड 01 के विद्यालय के सटे हीं मात्र 25 मीटर की परिधि में आधा दर्जन अवैध मुर्गा फार्म एवं खुदरा मुर्गा की मांस बेचने का धंधा चलाया जा रहा है।जबकि नप अधिनियम के मुताबिक आवासीय क्षेत्रों में ऐसे अवैध व्यापार पर प्रतिबंध है।नप के इओ दीपक कुमार व एसडीओ रविप्रकाश आखिर रहस्यमय चुप्पी क्यों साधे बैठे हैं ? क्या नियम व कानून पालन करने वालों के हाथ बंधे हैं या फिर नप के कर्मी वस्तुस्थिति से अधिकारियों को अवगत नहीं कराते हैं या फिर आवासीय इलाकों में जारी ऐसे अवैध धंधे नपकर्मी के कमाई का जरिया तो नहीं। काली मेला के सरकारी भूमि का आखिर बड़े पैमाने पर अतिक्रमण पर फारबिसगंज के अंचल पदाधिकारी संजीव कुमार चुप क्यों बैठे हैं ?

105 total views, 1 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »