Breaking News

Big breaking – बिहार सरकार का आदेश 18 अप्रैल तक स्कूल,कॉलेज,कोचिंग संस्थान,धर्म स्थल भी बंद और शाम 7 बजे के बाद सभी दुकाने बंद

कोरोना पर लापरवाही अब पड़ रही है भारी..कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए आज नीतीश सरकार ने कई निर्णय लिए है। लॉक डाउन तो नही जो सख्ती लगाई गई है उसे आंशिक लॉक डाउन तो कह ही सकते है..सरकार के आदेश के अनुसार
पूरे बिहार में 30 अप्रैल तक सभी दुकान या प्रतिष्ठान शाम 7 बजे तक ही खुलेंगे. जो भी दुकानें खुलेंगी उनमें कोविड गाइडलाइंस का पालन करना होगा. सभी मास्क लगायेंगे, सेनेटाइजर की व्यवस्था होगी, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा.

रेस्टोरेंट, ढाबा औऱ भोजनालय शाम 7 बजे के बाद तक खोलने की इजाजत होगी. लेकिन उन्हें अपनी क्षमता का सिर्फ 25 प्रतिशत लोगों को ही बिठाना होगा. होम डिलेवरी पर रोक नहीं लगेगी.

30 अप्रैल तक सभी तरह के सार्वजनिक कार्यक्रमों पर रोक रहेगी. सभी निजी औऱ सरकारी सार्वजनिक कार्यक्रमों पर रोक रहेगी.

30 अप्रैल तक सभी सभी धार्मिक स्थल आम लोगों के लिए बंद रहेंगे

30 अप्रैल तक सभी सरकारी दफ्तरों में अधिकारी तो हर रोज आयेंगे लेकिन कर्मचारी सिर्फ एक तिहाई की संख्या में आयेंगे. यानि एक दिन में सिर्फ 33 फीसदी कर्मचारी ही ऑफिस आय़ेंगे. आपातकालीन सेवाओं को इस बंदिश से अलग रखा गया है.

30 अप्रैल तक प्राइवेट संस्थानों को खोले रखने की मंजूरी होगी लेकिन वहां भी सिर्फ 33 फीसदी कामगार ही एक दिन में आय़ेंगे. आद्योगिक संस्थानों पर ये बंदिश लागू नहीं होगी.

अंतिम संस्कार में सिर्फ 50 लोगों के शामिल होने की होगी. वहीं श्राद्ध औऱ शादी-ब्याह में 200 लोगों को शामिल होने की मंजूरी होगी.

सिनेमा घरों को खोले रखने की इजाजत होगी लेकिन वहां सिर्फ 50 फीसदी सीटों पर ही दर्शकों को टिकट दिया जायेगा.

पब्लिक ट्रांसपोर्ट में सिर्फ 50 प्रतिशत सवारी ही चलेंगे.

पार्क खुले रहेंगे लेकिन कोविड गाइडलाइंस का हर हाल में पालन करना होगा

फिलहाल आंशिक लॉकडाउन, नाइट कर्फ्यू पर बाद में फैसला

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि फिलहाल सूबे में आंशिक लॉकडाउन लगाया गया है. सरकार स्थिति की समीक्षा कर रही है. स्थिति अगर संभल गयी तो ठीक वर्ना नाइट कर्फ्यू का भी फैसला लिया जा सकता है. सरकार हर रोज स्थिति पर नजर बना कर रखेगी. हालात के मुताबिक फैसला लिया जायेगा.

216 total views, 2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »