http://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js बिहार के बोधगया में बर्खास्त एमयू कर्मियों के ननिहाल बच्चों ने रचा आन्दोलन का इतिहास – India News Live

बिहार के बोधगया में बर्खास्त एमयू कर्मियों के ननिहाल बच्चों ने रचा आन्दोलन का इतिहास

i
दिनेश कुमार पंडित
प्रदर्शन कर बच्चों ने गवर्नर से मांगा
अपने पापा की नौकरी

-हांथों में नारेबाजी की तख्तियां लिए तीन सौ बच्चों ने जुलूस प्रदर्शन में की जबर्दस्त नारेबाजी

,,,.,,,- 18 माह से लेकर 10 वर्षों तक के बच्चों ने जुलूस प्रदर्शन में भाग लिया।
बिहार में बोधगया:एमयू के बर्खास्त दो सौ कर्मचारियों के लगभग तीन सौ बच्चों ने मुख्यालय में भव्य जुलूस प्रदर्शन कर आन्दोलन का नया इतिहास रच दिया। अपनी मुलायम हांथों में विभिन्न तरह की नारेबाजी लिखित तख्तियां लिए बच्चों के मुख से तोतली जुबान में जब यह नारों का स्वर फूटा ‘ गवर्नर साहब मेरे पापा की नौकरी वापस करो’ ‘ वी सी- रजिस्ट्रार को बर्खास्त करो’ तब जुलूस प्रदर्शन में शामिल कर्मचारियों,शिक्षकों व विद्यार्थियों की आंखें नम हो गयीं। जुलूस प्रदर्शन में मगध विश्वविद्यालय के शिक्षकेत्तर कर्मचारियों के अलावा बिहार राज्य सेवानिवृत शिक्षक महासंघ के महामंत्री प्रोफेसर रामप्रवेश सिंह,सेवानिवृत प्राचार्य प्रोफेसर मजबूर हुसैन,प्रोफेसर रामेश्वर उपाध्याय,स्नातकोत्तर भौतिकी विभाग के सेवानिवृत्त विभागाध्यक्ष प्रोफेसर सारनाथ सिंह,प्रोफेसर रामभरत सिंह,जनअधिकार पार्टी के जिलाध्यक्ष भवानी सिंह,युवा शक्ति के जिलाध्यक्ष ओम यादव,युवा परिषद के जिलाध्यक्ष भोला यादव,विश्वविद्यालय अध्यक्ष मिथिलेश कुमार,सचिव अशोक कुमार,अशोक कुमार,सुनील सिंह,विकास कुमार,अंजाम कुमार,राजीव कुमार,विकास कुमार,बलराम कुमार,राहुल कुमार समेत बड़ी संख्या में छात्र नेता मौजूद थे। इस आशय की जानकारी मगध विश्वविद्यालय शिक्षकेत्तर कर्मचारी संघ के महासचिव डाॅ अमरनाथ पाठक ने दी।इसके पूर्व हड़ताल के 20 वें दिन हड़ताली कर्मचारियों ने सभा का आयोजन किया। सभा को संबोधित करते हुए सेवानिवृत्त शिक्षक महासंघ के महामंत्री प्रोफेसर रामप्रवेश सिंह ने कर्मचारियों के हड़ताल का समर्थन करते हुए कहा कि कुलपति यदि अविलंब बर्खास्तगी आदेश वापस नहीं लेते और कर्मचारियों की मांगो को पूरा नहीं करते तब हम’आमरण अनशन पर बैठ जायेंगे।’ इस मौके पर प्रोफेसर मजबूर हुसैन व प्रोफेसर रामेश्वर उपाध्याय ने भी हड़ताली कर्मचारियों को संबोधित करते हुए न सिर्फ उनकी मांगो का समर्थन किया बल्कि चट्टानी एकता बनाये रखने केलिए तन-मन-धन से सहयोग करने की घोषणा की। जन अधिकार पार्टी के जिलाध्यक्ष भवानी सिंह ने कर्मचारियों के हड़ताल का समर्थन करते हुए कहा कि नौ दिसम्बर तक यदि बर्खास्त कर्मचारियों की सेवा बहाल नहीं होती व कर्मचारियों की मांगो को पूरा नहीं किया जाता तब दस दिसम्बर को सड़क व रेल का चक्का जाम किया जायेगा। इसके उपरांत सड़क से संसद तक चरणबद्ध आन्दोलन किया जायेगा। जरूरत पड़ी तब बिहार बंद का आयोजन किया जायेगा। सभी नेताओं ने एक स्वर में सिन्डिकेट के माननीय सदस्यों से आग्रह किया कि गुरूवार को पटना में आहुति सिंडीकेट की बैठक में वर्तमान कुलपति के घपले-घोटालों की योजना व कर्मचारी विरोधी प्रस्ताव पर अपनी स्वीकृति प्रदान न करें क्योंकि एक ओर जहां कर्मचारियों का मामला पटना हाईकोर्ट में विचाराधीन है वहीं दूसरी ओर घपले-घोटालों के मामले महामहिम कुलाधिपति सह राज्यपाल के संज्ञान में है। सभा का संचालन करते हुए महासचिव डाॅ अमरनाथ पाठक मांगो के सन्दर्भ में कहा कि कुलपति व रजिस्ट्रार गवर्नर के आदेश व तीन बार किये गये अपने ही लिखित एग्रीमेंट को नहीं मान रहे हैं। अतिथियों का आभार व्यक्त करते हुए संघ के अध्यक्ष अक्षय कुमार ने कहा कि जबतक सभी मांगो को पूरा नहीं किया जाता है आन्दोलन तीव्रतम होता जायेगा। सभा को संघ के उपाध्यक्ष रामसरूप राम,संयुक्त सचिव रामजी सिंह,सहायक सचिव धनंजय ठाकुर,मन्ना सिंह, चांटे सिंह आदि ने भी संबोधित किया।

Comments

comments

x

Check Also

सीवान में लोगों ने लिया संकल्प, दहेज कुप्रथा मिटाने को निकाली बाइक रैली

✍🏻अखलाक अहमद सीवान : लौह पुरुष सरदार पटेल की पुण्य तिथि को सीवान में नए अंदाज में मनाया गया।पटेल चेतना ...