http://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js कैसे एक तस्वीर ने निकाल दी नीतीश कुमार के शराबबंदी और दहेज विरोधी मुहिम की हवा – India News Live

कैसे एक तस्वीर ने निकाल दी नीतीश कुमार के शराबबंदी और दहेज विरोधी मुहिम की हवा

कहते हैं तस्वीर झूठ नहीं बोलती. आज की तारीख़ में ये सच बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनकी पार्टी जनता दल यूनाइटेड से अच्छा कोई नहीं जानता. नीतीश ने कभी सोचा भी नहीं होगा कि जिस दहेज प्रथा के ख़िलाफ़ साथ देने वाले लोगों से वो मिल रहे हैं उनमें एक उनकी पार्टी का नेता होगा जो अवेध शराब बेचने के आरोप में जेल जा चूका होगा.

इस तस्वीर में मोजूद राकेश सिंह जेल जाने के बावजूद जनता दल यूनाइटेड का उड़वंत नगर ब्लॉक अध्यक्ष बन गया. हालांकि कोर्ट में 2012 के जिस मामले में वो जेल गया उसका ट्राइयल फ़िलहाल चल रहा है.राकेश इस तस्वीर में हालांकि पार्टी के राज्य अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह भी मोजूद थे लेकिन एक आरोपी का पार्टी के संगठन में पद पर होना निश्चित रूप से दर्शाता है कि पार्टी में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं है. इस पूरे मामले में आरजेडी नेता और पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर हमला बोला है. उन्होंने शराबबंदी को ढोंग करार दिया. यह भी कहा कि जेडीयू के पदाधिकारी ही शराब का धंधा कर पार्टी को फंड दे रहे हैं.लेकिन पार्टी के प्रवक्ता नीरज कुमार का कहना है कि ये सच है राकेश जेल गए है और उनका पूरा मामला संज्ञान में लिया गया है.इस मामले में क़ानून अपना काम कर रहा है और जो भी कार्रवाई पार्टी को करनी है जल्द की जाएगी.

 

कौन है राकेश सिंह और कैसे पहुंचा सीएम आवास

दरअसल दो दिन पहले बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने दहेजबंदी अभियान के तहत किये गये कार्य को लेकर आरा के एक परिवार को अपने सरकारी आवास पर बुलाया था। इस दौरान आरा के रिटायर्ड हेडमास्टर हरिंद्र सिंह के साथ-साथ राकेश सिंह नामक शख्स भी सीएम आवास पहुंचा।

राकेश पार्टी में भोजपुर जिले के उदवंतनगर प्रखंड का अध्यक्ष था। सीएम के साथ मुलाकात के बाद राकेश ने सोशल मीडिया पर तीन तस्वीरें डालीं जिसमें एक सेल्फी और दो अन्य तस्वीरें थी। तस्वीर सोशल मीडिया में आते ही वायरल हो गईं क्योंकि सीएम के साथ उस शख्स ने सेल्फी ली थी जो साल 2012 में भोजपुर जिले के आरा में जहरीली शराब से हुई 29 लोगों की मौत के मामले में मुख्य आरोपी था।

 

राकेश को इस केस में सजा भी हुई थी और वो दो साल तक जेल में रहने के बाद हाल में ही जमानत पर बाहर आया था। राकेश की सेल्फी विथ सीएम तस्वीरें जब सोशल मीडिया में वायरल हुईं और सरकार की किरकिरी हुई तो सीएम के साथ फोटो खिंचवाने वाले राकेश सिंह पर तुरंत कार्रवाई की गई।

 

Comments

comments

x

Check Also

अवैध शराब फैक्ट्री का भंडाफोड …

  जामवन्त सिंह(गाजीपुर) गाजीपुर : गहमर स्थानीय पुलिस को शनिवार की रात बड़ी कामयाबी हाथ लगी। मुखबिर की सूचना पर ...