http://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js अश्विनी चौबे के बचाव में आए नीतीश और सुशील मोदी, कहा- बयान का गलत मतलब निकाला जा रहा है – India News Live

अश्विनी चौबे के बचाव में आए नीतीश और सुशील मोदी, कहा- बयान का गलत मतलब निकाला जा रहा है

 

 

  • अश्विनी चौबे के विवादित बयान के बाद भाजपा समेत अन्य समर्थक पार्टियां अब डैमेज कंट्रोल में जुट गई हैं.
  • नीतीश कुमार ने 866 करोड़ की लागत वाली कई स्वास्थ्य योजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया
  • केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने दिया था विविदित बयानचौबे ने दिल्ली के एम्स में भीड़ के लिए बिहारियों को बताया जिम्मेदारचौबे के बयान की हो रही है चारों ओर निंदा,

 

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे और विवाद का आपस में पुराना नाता रहा है. वो चाहें राज्य में स्वास्थ्य मंत्री हों या केंद्र में, अपने बयानों से पार्टी और सरकार दोनों के लिए मुश्किलें खड़ी कर देते हैं. मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से लेकर सुशील मोदी तक, सभी नेता केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे  के उस बयान के बाद डैमेज कंट्रोल में लग गए, जिसमें अश्विनी चौबे ने कहा था कि बिहार के लोग एक छोटी सी बिमारी होने पर भी दिल्ली एम्स इलाज करवाने पहुंच जाते हैं, जिसकी वजह से एम्स में इतनी भीड़ लग जाती है. चौबे ने कहा कि उन्होंने एम्स के अधिकारियों को कहा है कि ऐसे लोगों का बिना इलाज किए उन्हें वापस बिहार भेज दें.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार स्वास्थ्य विभाग के एक कार्यक्रम में चौबे के बयान के बचाव में दिखे. हलांकि, उन्होंने नाम तो नहीं लिया और अपने सांसद के दिनों को याद करते हुए कहा कि दिल्ली में बिहार के सांसदों की बुनियादी जिम्मेदारी होती है कि उनके क्षेत्र से इलाज के लिए कोई आए तो उनका एम्स में इलाज कराएं, इसके लिए बहुत धयान देना पड़ता है और एक सहयोगी रखना पड़ता था कि मरीज को कोई दिक्क्त न हो, जरूरत पड़ती थी तो डॉक्टर से भी बात करते थे. लेकिन अब हमलोगों का लक्ष्य है कि छोटी-मोटी बीमारियों के लिए लोगों को बिहार से बाहर जाने के लिए मजबूर नहीं होना पड़े. नीतीश स्वास्थ्य विभाग की  866 करोड़ की लागत से स्वीकृत योजनाओं का शिलान्यास एवं उद्घाटन के बाद लोगो को सम्बोधित कर रहे थे.

चौबे के बयान के बाद विपक्षी दलों के आक्रामक तेवर को देखते हुए बचाव के लिए बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को भी आगे आना पड़ा. उन्होंने कहा कि चौबे की बातों को बेवजह तिल का ताड़ बनाया जा रहा है.  मोदी ने कहा कि लोग छोटी-मोटी बीमारियों के लिए दिल्ली चले जाते हैं और भीड़ हो जाती हैं तो छोटी-मोटी बीमारियों का इलाज यहीं हो जाएगा और लोगों को सूबे से बाहर भी नहीं जाना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि अगर कोई जाना चाहता है तो कोई रोक नहीं है बल्कि राज्य सरकार मदद करती है और पैसा भी देती है.
वहीं विपक्ष के नेता लालू यादव ने चुटकी ली थी कि चौबे ने ऐसा बयान देकर बिहारियों का अपमान किया है. लालू के बयान पर स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि वो उस कार्यक्रम में उपस्थित थे उनके बयान का लोग गलत अर्थ निकाल रहे हैं.

Comments

comments

x

Check Also

गांव में हिन्दू जनजागृति समिति चलाया स्वास्थ्य मिशन..

जामवन्त सिंह(गाजीपुर) स्वच्छ भारत मिशन अभियान के तहत दीपावली एवं छठ को देखते हुए सोनवल हिन्दू जनजागृति समिति की महिला ...