http://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js भदोही के सांसद को ‘एशिया पोस्ट सर्वे’ ने माना देश का सबसे बेहतर सांसद – India News Live-INL NEWS LIVE NETWORK (P)LTD.

भदोही के सांसद को ‘एशिया पोस्ट सर्वे’ ने माना देश का सबसे बेहतर सांसद

भदोही के लोकप्रिय सांसद विरेन्द्र सिंह मस्त

भदोही ၊ जिस तरह आध्यात्मिक काल मे जिले को सीता समाहित स्थल सीतामढ़ी के रूप में नाम मिला, ऐतिहासिक काल में यहां भरों की राजधानी के रूप में तथा आधुनिक काल में भदोही को देश विदेश में डालर नगरी के रूप में जाना जाता थाl ठीक उसी क्रम को देश व विदेश में डंका बजाने वाले जिले के सांसद विरेन्द्र सिंह मस्त आगे बढा रहे हैl एशिया पोस्ट सर्वे ने देश के सांसदों से जुडी पांच सवालों पर जनता की राय ली जिसमें विरेन्द्र सिंह ने जनता से जुडाव, कार्यक्रम, संसद में सहभागिता, प्रश्न पूछना, प्रभाव, निधि प्रयोग, बिल और कार्यशैली से जुडे सवालों पर 2017 में सबसे ज्यादा प्रभावशाली सांसद के रूप में चुने गयेl विरेन्द्र सिंह संसद में लोगों से किसानी करने व कुश्ती लडने की वकालत कर चुके है, विरेन्द्र सिंह ने संसद में कहा था कि बारिश कराने के लिये यज्ञ करना जरूरी है, एर बार मोदी जी की तुलना किसी ने हिटलर से कि थी तो विरेन्द्र सिंह काफी उग्र रूप में दिखे थे संसद में ၊
मालूम हो कि 1956 में बलिया के किसान परिवार में जन्में विरेन्द्र सिंह ने काशी विश्वविद्यालय में शिक्षा दीक्षा के बाद विभिन्न तरह के सामाजिक कार्यो व संगठनों में अच्छे पदों को सुशोभित करते हुये सक्रिय राजनीति में पदार्पण किया, और देश में एक प्रभावशाली राजनेता के रूप में ख्याति प्राप्त कर ली, गौरतलब है कि विरेन्द्र सिंह जागरण मंच, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, वनवासी कल्याण आश्रम, भारतीय मजदूर संघ इत्यादि संगठनों से जुडे होने के साथ वर्तमान में किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व गांव चलो अभियान के प्रणेता के रूप में जाने जाते हैl विरेन्द्र सिंह पहली बार 1991 में, दूसरी बार 1998 में फूलन देवी को हराकर सांसद बने और तीसरी बार 2014 में राकेशधर त्रिपाठी को हराकर सांसद बनेl हाल ही में हुये गुजरात चुनाव में सांसद विरेन्द्र सिंह ने महत्वपुर्ण भूमिका निभाईl जिले के निवासियों को अपने सांसद पर गर्व हैl

भदोही से संतोष कुमार तिवारी की रिपोर्ट

Comments

comments

x

Check Also

भारतीय नेताओं में राष्ट्रवाद या राजवाद की अधिकता!!

  भारतीय नेताओं में राष्ट्रवाद या राजवाद की अधिकता? भारत के लोगों का यह दुर्भाग्य है कि यहां के ज्यादातर ...