http://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js विशेष आर्टिकल – India News Live

विशेष आर्टिकल

गुजरात में बदलाव की आहट, पूर्व IPS बोले- गुजरात सचिवालय में ‘काले कारनामों’ की फाइलें जलाने लगे हैं कर्मचारी

रिपोर्ट अनस मोतियानी की सूरत ၊ गुजरात के पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट ने एक बार फिर बीजेपी पर निशाना ...

Read More »

आधार को बैंक खाते से जोड़ने की डेडलाइन खत्म ;SC में सुनवाई से पहले सरकार ने लिया फैसला

BREAKING NEWS Now no deadline to link aadhar card to bank account, government decides before crucial hearing in SC नई ...

Read More »

प्रजा द्वारा मुंबई के नगर निगम शिक्षा की परिस्थिति पर प्रकाशित वार्षिक रिपोर्ट चौंकाने वाले ; आरटीआई (सूचना का अधिकार) हाले बयां

वर्ष 2008-09 में पहली कक्षा में 63,392 बच्चों ने नामांकन कराया था, और यह संख्या 2016-17 में घटकर 32,218 रह ...

Read More »

“डर्टी फ़ोटो” से शुरू हुई “डर्टी पॉलिटिक्स”:- अमिताभ ओझा की कलम से

  बड़ी गंदी हो गई है राजनीति ..शराब माफिया के साथ सीएम नीतीश कुमार की सेल्फी से शुरू हुआ फ़ोटो ...

Read More »

जब दाल नहीं गली तो खिचड़ी बेचने लगे…रवीश की कलम से

(News Desk) जब दाल नहीं गली तो खिचड़ी बेचने लगे. खिचड़ी बेरोज़गारों का व्यंजन पहले से है, नौकरी मिल नहीं ...

Read More »

आगे-आगे नेताजी, पीछे-पीछे ‘वंदे मातरम’ लिए रिपोर्टर.. फिर टेस्ट में सब फेल हुए- वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम की कलम से

मुझे अंदाजा था कि चैनलों के रिपोर्टर माइक लेकर निकलेंगे. अलग-अलग शहरों में बीजेपी नेताओं-पार्षदों को पकड़ेंगे. वंदे मातरम गाने ...

Read More »

जब इंदिरा को नेहरु के सामने फिरोज गांधी ने कह दिया था – “तुम फासिस्ट हो“वरिष्ठ पत्रकार अजित अंजुम की कलम से

फिरोज जहांगीर गांधी. इंदिरा गांधी के पति. प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु के दामाद. राजीव गांधी और संजय गांधी के पिता. ...

Read More »

गैर बराबरी की रोटी पर बराबरी का वोट ही है लोकतंत्र ?वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी की कलम से

जो 60 साल में नहीं हुआ वह 60 महीने में होगा। कुछ इसी उम्मीद के आसरे मई 2014 की शुरुआत ...

Read More »

प्रधानमंत्री जी गुजरात के वे 50 लाख घर कहां हैं?वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार की कलम से

2012 में जब गुजरात में चुनाव करीब आ रहे थे तब गुजरात में घर को लेकर काफी चर्चा हो रही ...

Read More »

अमेरिका में फेंककर हिंदुस्तान में फंस गए शिवराज,वरिष्ठ पत्रकार अजित अंजुम की कलम से

फेंकना मानव स्वभाव है. हर आदमी फेंकता है. कोई थोड़ा फेंकता है. कोई ज्यादा फेंकता हैं. कोई दिन -रात फेंकता ...

Read More »